2 Lines Khwab Shayari – तुम्हारे ख्वाबों को गिरवी रखके

तुम्हारे ख्वाबों को गिरवी रखके…

तकिये से रोज़ रात थोड़ी नींद उधार लेता हु..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *