DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Loading...

Ahmed Faraz Ghazal – ज़िन्दगी यूँ थी कि जीने का बहाना तू था

ज़िन्दगी यूँ थी कि जीने का बहाना तू था
हम फ़क़त जेबे-हिकायत थे फ़साना तू था

हमने जिस जिस को भी चाहा तेरे हिज्राँ में वो लोग
आते जाते हुए मौसम थे ज़माना तू था

अबके कुछ दिल ही ना माना क पलट कर आते
वरना हम दरबदरों का तो ठिकाना तू था

यार अगियार कि हाथों में कमानें थी फ़राज़
और सब देख रहे थे कि निशाना तू था

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
loading...
DilSeDilKiTalk © 2015