Ahmed Faraz Ghazal – थक गया है मुसलसल सफ़र उदासी का

थक गया है मुसलसल सफ़र उदासी का,
और अब भी है मेरे शाने पे सर उदासी का,

वो कौन कीमिया-गर था के जो बिखेर गया,
तेरे गुलाब से चेहरे पे ज़र उदासी का,

मेरे वजूद के खि़ल्वते-क़दे में कोई तो था,
जो रख गया है दिया ताक़ पर उदासी का,

मैं तुझसे कैसे कहूँ यार-ए-मेहरबां मेरे,
के तू ही इलाज़ है मेरी हर उदासी का,

ये अब जो आग का दरिया मेरे वजूद में है,
यही तो पहले-पहल था शरार उदासी का,

ना जाने आज कहाँ खो गया सितार-ए-शाम,
वो मेरा दोस्त, मेरा हमसफ़र उदासी का,

‘फ़राज़’ दीदा-ए-पुराब में ना ढूंढ उसे,
के दिल की तह में कहीं है गोहर उदासी का,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *