DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Allama Iqbal Ghazal – Parishan Hoke Meri Khak Aakhir Dil Na Ban Jaye

परीशाँ होके मेरी खाक आखिर दिल न बन जाये
जो मुश्किल अब हे या रब फिर वही मुश्किल न बन जाये

न करदें मुझको मज़बूरे नवा फिरदौस में हूरें
मेरा सोज़े दरूं फिर गर्मीए महेफिल न बन जाये

कभी छोडी हूई मज़िलभी याद आती है राही को
खटक सी है जो सीने में गमें मंज़िल न बन जाये

कहीं इस आलमें बे रंगो बूमें भी तलब मेरी
वही अफसाना दुन्याए महमिल न बन जाये

अरूज़े आदमे खाकी से अनजुम सहमे जातें है
कि ये टूटा हुआ तारा महे कामिल न बन जा



Loading...

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
loading...
loading...
DilSeDilKiTalk © 2015