Armaan Shayari – दो हिस्सों में बंट गए है मेरे दिल के

दो हिस्सों में बंट गए है, मेरे दिल के तमाम अरमान…
कुछ तुझे पाने निकले, तो कुछ मुझे समझाने निकले….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *