Armaan Shayari In Hindi – अब्सार आज भी देखती है

अब्सार आज भी देखती है उन राहो को जहा से तू गुजर गया
अरमान आज भी उठते है उन वादों के लिए जिनसे तू मुकर गया ।

Leave a Reply