Category: Barsaat Shayari

Barsaat Shayari In Hindi – टपक पड़ते हैं आँसू जब

टपक पड़ते हैं आँसू जब किसी की याद आती है !!
ये वो बरसात है जिसका कोई मौसम नहीं होता !!


Barsaat Shayari In Hindi – बिजलियों ने सीख ली उनके


बिजलियों ने सीख ली उनके तबस्सुम की अदा,
रंग जुल्फों की चुरा लाई…. घटा बरसात की।

Barsaat Shayari In Hindi – अगर मेरी चाहतो के मुताबिक

अगर मेरी चाहतो के मुताबिक जमाने में हर बात होती
तो बस मै होता तुम होती और सारी रात बरसात होती


Barsaat Shayari – आज बारिश में भीग कर मैंने पूराने जख्म धो डाले


आज बारिश में भीग कर मैंने पूराने जख्म धो डालें,
मैं फिर तैयार हूँ…
चल ऊपर वाले अब फिर से नए जख्म बनालें।