DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Category: Barsaat Shayari

Barsaat Shayari – आज बारिश में भीग कर मैंने पूराने जख्म धो डाले

आज बारिश में भीग कर मैंने पूराने जख्म धो डालें,
मैं फिर तैयार हूँ…
चल ऊपर वाले अब फिर से नए जख्म बनालें।


Advertisements

Barsaat Shayari – टपक पड़ते हैँ आँसू जब किसी की याद आती है


Advertisements

टपक पड़ते हैँ आँसू जब किसी की याद आती है..
ये वो बरसात है जिसका कोई मौसम नहीँ होता.!!

Barsaat Shayari In 2 Lines – रोक कर बैठे हैं कई समंदर आँखों में


Advertisements

रोक कर बैठे हैं कई समंदर आँखों में
दगाबाज़ हो सावन तो क्या…
हम खुद ही बरस लेंगे…

loading...
Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015