DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Loading...

Category: Mother Shayari

Mother Shayari In Hindi – यूंही नहीं गूंजती किल्कारीयां घर

Advertisements

यूंही नहीं गूंजती किल्कारीयां, घर आँगन के हर कोने मे,
दोस्तों
जान हथेली पर रखनी पड़ती है “माँ” को “माँ” होने मे..

Mother Shayari In Hindi – न अपनों से खुलता है

न अपनों से खुलता है,
न ही गैरों से खुलता है.
ये जन्नत का दरवाज़ा है,
मेरी माँ के पैरो से खुलता है.!


Loading...

Mother Shayari In Hindi – कैसी मटकी कैसा माखन कैसा नरम बिछौना

Loading...

कैसी मटकी,कैसा माखन,कैसा नरम बिछौना माँ?
जल्दी आकर रोटी देदे तेरा कान्हा भूखा माँ।।

Mother Shayari – शर्त लगी थी जब पूरी दुनिया को एक ही शब्द में

Advertisements

शर्त लगी थी जब पूरी दुनिया को एक ही शब्द में लिखने की,
तो वो पुरी किताबें ढुंढ रहे थे ओर मेंने
“मां” लिख दिया…

Mother Shayari – ” नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से

Advertisements

” नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से …
ऐ खुदा……
तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इन्सान बनाती है”

loading...
DilSeDilKiTalk © 2015