Category: Mulakaat Shayari

Mulakaat Shayari In Hindi – कल रात आइनों का जश्न

कल रात आइनों का जश्न था
अंधे तमाशबीनों के हाथ में पत्थर नहीं मिले
मैं चाहता था खुद से हो मुलाक़ात
मेरे कद के बराबर आईने न मिले


Mulakaat Shayari In Hindi – कौन कहता है मुलाक़ात मेरी

कौन कहता है मुलाक़ात मेरी आज की है…
तू मेरी रूह के अंदर है कई सदियों से..


Mulakaat Shayari In Hindi – दे दिया तुमको दिल हार


दे दिया तुमको दिल हार गये
पहली नजर में खुद को
मुलाक़ात दर मुलाक़ात तेरे होते गये
क्या ये था मेरा गुनाह? जो दूर तुम हो गये?