Chahat Shayari In Hindi – कैसे भूलेगा वो मेरी बरसों

कैसे भूलेगा वो मेरी बरसों की चाहत को
दरिया अगर सूख भी जाये तो भी रेत से नमी नहीं जाती

Leave a Reply