DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Daagh Dehlvi Ghazal – Har Baar Maangti Hai Naya Chashm-A-Yaar Dil

हर बार मांगती है नया चश्म-ए-यार दिल
इक दिल के किस तरह से बनाऊं हज़ार दिल

पूछा जो उस ने तालिब-ए-रोज़-जज़ा है कौन
निकला मेरी ज़बान से बे-इख्तियार दिल

करते हो अहद-ए-वस्ल तो इतना रहे ख़याल
पैमान से ज्यदा है नापायदार दिल

उस ने कहा है सब्र पड़ेगा रक़ीब का
ले और बेकरार हुआ ऐ बेकरार दिल

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015