DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Daagh Dehlvi Ghazal – Khatir Se Ya Lihaaz Se Main Maan To Gaya

खातिर से या लिहाज़ से मैं मान तो गया
झूठी क़सम से आपका ईमान तो गया

दिल लेके मुफ़्त, कहते हैं कुछ काम का नहीं
उलटी शिकायतें रहीं, एहसान तो गया

अफ़्शाए-राज़े-इश्क़ में गो ज़िल्लतें हुईं
लेकिन उसे जता तो दिया, जान तो गया

देखा है बुतकदे में जो ऐ शैख़ कुछ न कुछ
ईमान की तो ये है कि ईमान तो गया

डरता हूँ देख कर दिले-बे-आरज़ू को मैं
सुनसान घर ये क्यों न हो मेहमान तो गया

गो नामाबर से खुश न हुआ पर हज़ार शुक्र
मुझको वो मेरे नाम से पहचान तो गया

होशो-हवासो-ताबो-तवाँ ‘दाग़’ जा चुके
अब हम भी जाने वाले हैं, सामन तो गया

Advertisements
loading...

Similar Shayari…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015