DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Daagh Dehlvi Ghazal – Tumhare Khat Mein Naya Ik Salaam Kiska Tha

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किसका था

न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किसका था

वो क़त्ल कर के हर किसी से पूछते हैं

ये काम किस ने किया है ये काम किसका था

वफ़ा करेंगे निभायेंगे बात मानेंगे

तुम्हें भी याद है कुछ ये कलाम किसका था

रहा न दिल में वो बे-दर्द और दर्द रहा

मुक़ीम कौन हुआ है मक़ाम किसका था

न पूछ-पाछ थी किसी की न आव-भगत

तुम्हारी बज़्म में कल एहतमाम किसकाथा

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किये पढ़ा भी नहीं

सुन जो तुम ने बा-दिल वो पयाम किसका था

इन्हीं सिफ़ात से होता है आदमी मशहूर

जो लुत्फ़ आप ही करते तो नाम किसका था

गुज़र गया वो ज़माना कहें तो किस से कहें

ख़याल मेरे दिल को सुबह-ओ-शाम किसका था

हर एक से कहते हैं क्या “दाग़।” बेवफ़ा निकला

ये पूछे इन से कोई वो ग़ुलाम किसका था

Advertisements
loading...

Similar Shayari…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015