Dard Bhari Hindi Shayari – रोज रो रो कर मैं जीता तो जीता कैसे

रोज रो रो कर मैं जीता तो जीता कैसे,
इस लिए मैं मुस्कुरा कर रोज मरता हूँ !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *