Dard Sher O Shayari – अगर मुहब्बत की हद नहीं कोई

अगर मुहब्बत की हद नहीं कोई,
तो फिर दर्द का हिसाब क्यों रखूँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *