Gair Shayari In Hindi – आज मैं गैर हूँ…. कुछ

आज मैं गैर हूँ…. कुछ दिन हुये मैं गैर न था….
मेरी चाहत मेरी उलफत से….. उसे बैर न था…

Leave a Reply