Gair Shayari In Hindi – गैर की आरज़ू नही मुझको

गैर की आरज़ू नही मुझको,
तेरी मुहब्बत की तलब है…

Leave a Reply