Hindi Shayai – अब उठती नहीं हैं

अब उठती नहीं हैं आँखें, किसी और की तरफ …

पाबन्द कर गयीं हैं शायद, किसी की नज़रें मुझे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *