Hindi Shayari – कितनी अजीब है

कितनी अजीब है मेरे अन्दर की तन्हाई भी,

हजारो अपने है मगर याद तुम ही आते हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *