Hindi Shayari – कुछ तुम्हारी निगाह काफिर थी

कुछ तुम्हारी निगाह काफिर थी,

कुछ मुझे भी खराब होना था।

Leave a Reply