Hindi Shayari – मेरी बात सुन

मेरी बात सुन ‪पगली‬‬ अकेले ‪हम‬‬ ही शामिल नही है

इस ‪जुर्म‬‬ में, जब नजरे‬‬ मिली थी तो ‪मुस्कराई तू‬‬ भी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *