Intezaar Shayari – “इतनी तो तेरी सूरत भी नहीं देखी मैने

“इतनी तो तेरी सूरत भी नहीं देखी मैने,
जितना तेरे इंतज़ार में घड़ी देखी है!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *