Intezaar Shayari In Hindi – बस एक शाम का हर

बस एक शाम का हर शाम इंतज़ार रहा..
मगर वो शाम किसी शाम भी नहीं आई..

1 Comment

Add a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *