Khwab Shayari – तू हकीकत-ए-इश्क है या कोई फरेब

तू हकीकत-ए-इश्क है या कोई फरेब..
ज़िन्दगी में आती नहीं, ख़्वाबों से जाती नहीं…!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *