Khwab Shayari – बिछड़कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था

बिछड़कर फिर मिलेंगे यकीन कितना था…
बेशक ख्वाब ही था मगर.. हसीन कितना था….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *