Khwab Shayari – सुबह टुकड़े मिले थे कुछ तकिये के नीचे

सुबह टुकड़े मिले थे कुछ तकिये के नीचे…..
ख्वाब थे जो रात को टूटे थे…..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *