DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Mirza Ghalib Ghazal – Aah Ko Chahiye Ek Umar Asar Hone Tak

आह को चाहिए इक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक।

आशिक़ी सब्र-तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूँ ख़ून-ए-जिगर होने तक।

हम ने माना कि तग़ाफुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएँगे हम तुमको ख़बर होने तक।

ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज
शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DilSeDilKiTalk © 2015