Mohabbat Shayari – मुहब्बत का ये क ख ग हमे ही क्योँ नही आता

मुहब्बत का ये क ख ग हमे ही क्योँ नही आता,
यहा जिससे मिलो वो इश्क के किस्से सुनाता है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *