Mohabbat Shayari In 2 Lines – जरा तो शर्म करती तू मुहब्ब्त चुप चुप के

जरा तो शर्म करती तू..
मुहब्ब्त चुप चुप के और नफरत सरे आम…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *