Mohabbat Shayari In 2 Lines – निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया

निगाहों में कोई भी दूसरा चेहरा नहीं आया,

भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का…..!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *