Mother Shayari In Hindi – न अपनों से खुलता है

न अपनों से खुलता है,
न ही गैरों से खुलता है.
ये जन्नत का दरवाज़ा है,
मेरी माँ के पैरो से खुलता है.!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *