DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Munawwar Rana Ghazal – Hawa Ke Rukh Par Rehne Do Ye Chalna Sikh Jayega

हवा के रूख पर रहने दो, ये चलना सीख जायेगा
कि बच्चा लडखडायेगा तो चलना सीख जायेगा

वो पहरों बैठ के तोते से बातें करता रहता है
चलो अच्छा है अब नज़रें बदलना सीख जायेगा

इसी उम्मीद पर हमने बदन को कर लिया छलनी
कि पत्थर खाते खाते पेड फलना सीख जायेगा

ये दिल बच्चे की सूरत है, इसे सीने में रहने दो
बुरा होगा जो ये घर से निकलना सीख जायेगा

तुम अपना दिल मेरे सीने में कुछ दिनों के लिए रख दो
यहां रहकर ये पत्थर भी पिघलना सीख जायेगा

Advertisements
loading...

Similar Shayari…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015