DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Munawwar Rana Ghazal – Jarurat Se Ana Ka Bhari Patthar Toot Jata hai

ज़रूरत से अना का भारी पत्थर टूट जाता है
मगर फिर आदमी भी अन्दर -अन्दर टूट जाता है

ख़ुदा के वास्ते इतना न मुझको टूटकर चाहो
ज़्यादा भीख मिलने से गदागर टूट जाता है

तुम्हारे शहर में रहने को तो रहते हैं हम लेकिन
कभी हम टूट जाते हैं कभी घर टूट जाता है


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DilSeDilKiTalk © 2015