DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Munawwar Rana Ghazal – Ye Dekh Kar Patange Bhi Hairan Ho Gayi

ये देख कर पतंगे भी हैरान हो गयी
अब तो छते भी हिन्दू -मुसलमान हो गयी

क्या शहर -ए-दिल में जश्न -सा रहता था रात -दिन
क्या बस्तियां थी ,कैसी बियाबान हो गयी

आ जा कि चंद साँसे बची है हिसाब से
आँखे तो इन्तजार में लोबान हो गयी

उसने बिछड़ते वक़्त कहा था कि हँस के देख
आँखे तमाम उम्र को वीरान हो गयी


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

DilSeDilKiTalk © 2015