Nafrat Shayari – वोह आज भी कहती है दीवाना मुज़े

वोह आज भी कहती है दीवाना मुज़े,
जिसको मेरी दिल्लगी से नफरत थी…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *