Nasha Shayari In Hindi – दिल खामोश है मगर होंठ

दिल खामोश है मगर होंठ हँसा करते है
बस्ती वीरान है मगर लोग बसा करते है

नशा मयकदो मे अब कहाँ है यारो
लोग अब मय का नही मैं का नशा करते है।

Leave a Reply