Neend Shayari In Hindi – खुलती नही है क्यूँ नींद

खुलती नही है क्यूँ नींद रफ्तगां की
क्या हश्र तक ये सोया पडा रहेगा

Leave a Reply