Qateel Shifai Ghazal – Haath Diya Usne Mere Haath Mein

हाथ दिया उसने मेरे हाथ में
मैं तो वली* बन गया एक रात मे

इश्क़ करोगे तो कमाओगे नाम
तोहमतें बटती नहीं खैरात में

इश्क़ बुरी शै सही, पर दोस्तो
दख्ल न दो तुम, मेरी हर बात में

हाथ में कागज़ की लिए छतरियाँ
घर से ना निकला करो बरसात में

रत* बढ़ाया उसने न ‘क़तील’ इसलिए
फर्क था दोनों के खयालात में

* वली – मुसलिम साधु, युवराज
* रत – प्रेम प्रसंग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *