Romantic Shayri 2 Lines – ये ना समझना कि खुशियो के ही तलबगार है हम

ये ना समझना कि खुशियो के ही तलबगार है हम,

तुम अगर अश्क भी बेचो तो उसके भी खरीदार है हम !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *