Sad Hindi Shayari – रह रह के ताजा हो जाते हैं जख्म

रह रह के ताजा हो जाते हैं जख्म ,
हवा भी मजाक करती है खिड़कियों के सहारे…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *