Sad Shayari In 2 Lines – रोज़ कलम लेके बैठता हूँ

रोज़ कलम लेके बैठता हूँ अपना गुनाह लिखने के लिये,

और मुझे बस तेरा ही नाम याद आता है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *