DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Loading...

Sahir Ludhianvi Ghazal – Bhadka Rahe Hai Aag Lab-A-Nagmagaar Se Hum

भड़का रहे हैं आग लब-ए-नग़्मागार से हम|
ख़ामोश क्या रहेंगे ज़माने के डर से हम|

कुछ और बड़ गए अंधेरे तो क्या हुआ,
मायूस तो नहीं हैं तुलु-ए-सहर से हम|
[सहर=शाम]

ले दे के अपने पास फ़क़त एक नज़र तो है,
क्यूँ देखें ज़िन्दगी को किसी की नज़र से हम|

माना कि इस ज़मीं को न गुलज़ार कर सके,
कुछ ख़ार कम कर गए गुज़रे जिधर से हम|

Loading...
loading...

1 Comment

Add a Comment
  1. I think sehar has the meaning of morning

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
DilSeDilKiTalk © 2015