Sharaab Shayari – कभी देखेंगे ए-जाम तुझे होठों से लगाकर

कभी देखेंगे ए-जाम तुझे होठों से लगाकर,
कि मुझमे तू उतरता है कि तुझमे मैं उतरता हूँ…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *