Shikayat Shayari – सारी शिकायतों का हिसाब जोड़ कर रखा था

सारी शिकायतों का हिसाब जोड़ कर रखा था,
उसने बाँहों में लेकर सारा गणित बिगाड़ दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *