DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Tag: ahmed faraz urdu shayari

Ahmed Faraz Ghazal – ये आलम शौक़ का देखा न जाए

ये आलम शौक़ का देखा न जाए
वो बुत है या ख़ुदा देखा न जाए

ये किन नज़रों से तूने आज देखा
कि तेरा देखना देखा न जाए

हमेशा के लिए मुझसे बिछड़ जा
ये मंज़र बारहा देखा न जाए

ग़लत है जो सुना, पर आज़मा कर
तुझे ए बेवफ़ा देखा न जाए

ये महरूमी नहीं पास-ए-वफ़ा है
कोई तेरे सिवा देखा न जाए

यही तो आशना बनते हैं आख़िर
कोई ना-आशना देखा न जाए

ये मेरे साथ कैसी रौशनी है
कि मुझसे रास्ता देखा न जाए

‘फ़राज़’ अपने सिवा है कौन तेरा
तुझे तुझसे जुदा देखा न जाए


Advertisements

Ahmed Faraz Ghazal – ग़म-ए-हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई


Advertisements

ग़म-ए-हयात का झगड़ा मिटा रहा है कोई
चले आओ के दुनिया से जा रहा है कोई

कोई अज़ल से कह दो, रुक जाये दो घड़ी
सुना है आने का वादा निभा रहा है कोई

वो इस नाज़ से बैठे हैं लाश के पास
जैसे रूठे हुए को मना रहा है कोई

पलट कर न आ जाये फ़िर सांस नब्ज़ों में
इतने हसीन हाथो से मय्यत सजा रहा है कोई

Ahmed Faraz Ghazal – तुझसे मिलने को कभी हम जो मचल जाते हैं


Advertisements
loading...

तुझसे मिलने को कभी हम जो मचल जाते हैं
तो ख़्यालों में बहुत दूर निकल जाते हैं

गर वफ़ाओं में सदाक़त भी हो और शिद्दत भी
फिर तो एहसास से पत्थर भी पिघल जाते हैं

उसकी आँखों के नशे में हैं जब से डूबे
लड़-खड़ाते हैं क़दम और संभल जाते हैं

बेवफ़ाई का मुझे जब भी ख़याल आता है
अश्क़ रुख़सार पर आँखों से निकल जाते हैं

प्यार में एक ही मौसम है बहारों का मौसम
लोग मौसम की तरह फिर कैसे बदल जाते हैं

Ahmed Faraz Ghazal – सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं


Advertisements

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते हैं
सो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते हैं

सुना है रब्त है उसको ख़राब हालों से
सो अपने आप को बरबाद कर के देखते हैं

सुना है दर्द की गाहक है चश्म-ए-नाज़ उसकी
सो हम भी उसकी गली से गुज़र के देखते हैं

सुना है उसको भी है शेर-ओ-शायरी से शगफ़
सो हम भी मोजज़े अपने हुनर के देखते हैं

सुना है बोले तो बातों से फूल झड़ते हैं
ये बात है तो चलो बात कर के देखते हैं

सुना है रात उसे चाँद तकता रहता है
सितारे बाम-ए-फ़लक से उतर के देखते हैं

सुना है हश्र हैं उसकी ग़ज़ाल सी आँखें
सुना है उस को हिरन दश्त भर के देखते हैं

सुना है दिन को उसे तितलियाँ सताती हैं
सुना है रात को जुगनू ठहर के देखते हैं

सुना है रात से बढ़ कर हैं काकुलें उसकी
सुना है शाम को साये गुज़र के देखते हैं

सुना है उसकी सियाह चश्मगी क़यामत है
सो उसको सुरमाफ़रोश आह भर के देखते हैं

सुना है उसके लबों से गुलाब जलते हैं
सो हम बहार पर इल्ज़ाम धर के देखते हैं

सुना है आईना तमसाल है जबीं उसकी
जो सादा दिल हैं उसे बन सँवर के देखते हैं

सुना है जब से हमाइल हैं उसकी गर्दन में
मिज़ाज और ही लाल-ओ-गौहर के देखते हैं

सुना है चश्म-ए-तसव्वुर से दश्त-ए-इम्काँ में
पलंग ज़ाविए उसकी कमर के देखते हैं

सुना है उसके बदन के तराश ऐसे हैं
के फूल अपनी क़बायेँ कतर के देखते हैं

वो सर-ओ-कद है मगर बे-गुल-ए-मुराद नहीं
के उस शजर पे शगूफ़े समर के देखते हैं

बस एक निगाह से लुटता है क़ाफ़िला दिल का
सो रहर्वान-ए-तमन्ना भी डर के देखते हैं

सुना है उसके शबिस्तान से मुत्तसिल है बहिश्त
मकीन उधर के भी जलवे इधर के देखते हैं

रुके तो गर्दिशें उसका तवाफ़ करती हैं
चले तो उसको ज़माने ठहर के देखते हैं

किसे नसीब के बे-पैरहन उसे देखे
कभी-कभी दर-ओ-दीवार घर के देखते हैं

कहानियाँ हीं सही सब मुबालग़े ही सही
अगर वो ख़्वाब है ताबीर कर के देखते हैं

अब उसके शहर में ठहरें कि कूच कर जायेँ
फ़राज़ आओ सितारे सफ़र के देखते हैं

अभी कुछ और करिश्मे ग़ज़ल के देखते हैं
फ़राज़ अब ज़रा लहजा बदल के देखते हैं

जुदाइयां तो मुक़द्दर हैं फिर भी जाने सफ़र
कुछ और दूर ज़रा साथ चलके देखते हैं

रह-ए-वफ़ा में हरीफ़-ए-खुराम कोई तो हो
सो अपने आप से आगे निकल के देखते हैं

तू सामने है तो फिर क्यों यकीं नहीं आता
यह बार बार जो आँखों को मल के देखते हैं

ये कौन लोग हैं मौजूद तेरी महफिल में
जो लालचों से तुझे, मुझे जल के देखते हैं

यह कुर्ब क्या है कि यकजाँ हुए न दूर रहे
हज़ार इक ही कालिब में ढल के देखते हैं

न तुझको मात हुई न मुझको मात हुई
सो अबके दोनों ही चालें बदल के देखते हैं

यह कौन है सर-ए-साहिल कि डूबने वाले
समन्दरों की तहों से उछल के देखते हैं

अभी तलक तो न कुंदन हुए न राख हुए
हम अपनी आग में हर रोज़ जल के देखते हैं

बहुत दिनों से नहीं है कुछ उसकी ख़ैर ख़बर
चलो फ़राज़ को ऐ यार चल के देखते हैं

Ahmed Faraz Ghazal – चलो ये इश्क़ नहीं चाहने की आदत है

चलो ये इश्क़ नहीं चाहने की आदत है
कि क्या करें हमें दू्सरे की आदत है

तू अपनी शीशा-गरी का हुनर न कर ज़ाया
मैं आईना हूँ मुझे टूटने की आदत है

मैं क्या कहूँ के मुझे सब्र क्यूँ नहीं आता
मैं क्या करूँ के तुझे देखने की आदत है

तेरे नसीब में ऐ दिल सदा की महरूमी
न वो सख़ी न तुझे माँगने की आदत है

विसाल में भी वो ही है फ़िराक़ का आलम
कि उसको नींद मुझे रत-जगे की आदत है

ये मुश्क़िलें हों तो कैसे रास्ते तय हों
मैं ना-सुबूर उसे सोचने की आदत है

ये ख़ुद-अज़ियती कब तक “फ़राज़” तू भी उसे
न याद कर कि जिसे भूलने की आदत है

Ahmed Faraz Ghazal – गेसू-ए-शाम में एक सितारा एक ख़याल

गेसू-ए-शाम में एक सितारा एक ख़याल
दिल में लिए फिरते हैं तुम्हारा एक ख़याल

बाम-ए-फ़लक़ पर सूरज, चाँद, सितारे था
हम ने बेयाज़-ए-दिल पे उतारा एक ख़याल

कभी तो उन को भी देखो, जिन लोगों ने
उम्र गंवाई और संवारा एक ख़याल

याद के शहर के शोर से काले कोसों दूर
दश्त-ए-फ़रामोशी से पुकारा एक ख़याल

यूँ भी हुआ है दिल के मुक़ाबिल दुनिया थी
फिर भी ना हारा फिर भी ना हारा एक ख़याल

मुझ पर ज़राब पड़ी तो ख़ल्क़त ने देखा
मेरी बजाये पड़ा पड़ा एक ख़याल

एक मुसाफ़त, एक उदासी, एक ‘फ़राज़’
एक तमन्ना, एक शरारा, एक ख़याल

Ahmed Faraz Ghazal – संग-दिल है वो तो क्यूँ उस का गिला मैंने किया

संग-दिल है वो तो क्यूँ उस का गिला मैंने किया
जब के ख़ुद पत्थर को बुत, बुत को ख़ुदा मैंने किया

कैसे ना-मानूस लफ़्ज़ों की कहानी था वो शख़्स
उस को कितनी मुश्क़िलों से तर्जुमा मैंने किया

वो मेरी पहली मोहब्बत ,वो मेरी पहली शिकस्त
फिर तो पैमान-ए-वफ़ा सौ मर्तबा मैंने किया

हूँ सज़ा-वार-ए-सज़ा क्यूँ जब मुक़द्दर में मेरे
जो भी उस जान-ए-जहां ने लिख दिया, मैंने किया

वो ठहरता क्या के गुज़रा तक नहीं जिसके लिए
घर तो घर हर रास्ता आरास्ता मैंने किया

मुझ पे अपना जुर्म साबित हो ना हो लेकिन ‘फ़राज़’
लोग कहते हैं के उस को बेवफ़ा मैंने किया

Ahmed Faraz Ghazal – सामने उसके कभी उसकी सताइश नहीं की।

सामने उसके कभी उसकी सताइश नहीं की।
दिल ने चाहा भी मगर होंटों ने जुंबिश नहीं की॥

जिस क़दर उससे त’अल्लुक़ था चले जाता है,
उसका क्या रंज के जिसकी कभी ख़्वाहिश नहीं की॥

ये भी क्या कम है के दोनों का भरम क़ायम है,
उसने बख़्शिश नहीं की हमने गुज़ारिश नहीं की॥

हम के दुख ओढ के ख़िल्वत में पड़े रहते हैं,
हमने बाज़ार में ज़ख़्मों की नुमाइश नहीं की॥

ऐ मेरे अब्रे करम देख ये वीरानए-जाँ,
क्या किसी दश्त पे तूने कभी बारिश नहीं की॥

वो हमें भूल गया हो तो अजब क्या है फ़राज़,
हम ने भी मेल-मुलाक़ात की कोशिश नहीं की॥

Ahmed Faraz Ghazal – ये तबियत है तो ख़ुद आज़ार बन जायेंगे हम

ये तबियत है तो ख़ुद आज़ार बन जायेंगे हम
चारागर रोयेंगे और ग़मख़्वार बन जायेंगे हम

हम सर-ए-चाक-ए-वफ़ा हैं और तेरा दस्त-ए-हुनर
जो बना देगा हमें ऐ यार बन जायेंगे हम

क्या ख़बर थी ऐ निगार-ए-शेर तेरे इश्क़ में
दिलबरान-ए-शहर के दिलदार बन जायेंगे हम

सख़्त जान हैं पर हमारी उस्तवारी पर न जा
ऐसे टूटेंगे तेरा इक़रार बन जायेंगे हम

और कुछ दिन बैठने दो कू-ए-जानाँ में हमें
रफ़्ता रफ़्ता साया-ए-दीवार बन जायेंगे हम

इस क़दर आसाँ न होगी हर किसी से दोस्ती
आश्नाई में तेरा मयार बन जायेंगे हम

मीर-ओ-ग़ालिब क्या के बन पाये नहीं फ़ैज़-ओ-फ़िराक़
ज़म ये था रूमी-ओ-अतार बन जायेंगे हम

देखने में शाख़-ए-गुल लगते हैं लेकिन देखना
दस्त-ए-गुलचीं के लिये तलवार बन जायेंगे हम

हम चिराग़ों को तो तारीकी से लड़ना है “फ़राज़”
गुल हुए पर सुबह के आसार बन जायेंगे हम

Ahmed Faraz Ghazal – यूँ तुझे ढूँढने निकले की ना आये खुद भी

यूँ तुझे ढूँढने निकले की ना आये खुद भी
वो मुसाफ़िर की जो मंजिल थे बजाये खुद भी

कितने ग़म थे की ज़माने से छुपा रक्खे थे
इस तरह से की हमें याद ना आये खुद भी

ऐसा ज़ालिम की अगर ज़िक्र में उसके कोई ज़ुल्म
हमसे रह जाए तो वो याद दिलाये ख़ुद भी

लुत्फ़ तो जब है ताल्लुक में की वो शहर-ए-जमाल
कभी खींचे, कभी खींचता चला आये खुद भी

ऐसा साक़ी हो तो फिर देखिये रंग-ए-महफ़िल
सबको मदहोश करे होश से जाए खुद भी

यार से हमको तग़ाफ़ुल का गिला क्यूँ हो के हम
बारहाँ महफ़िल-ए-जानां से उठ आये खुद भी

Page 1 of 1012345...10...Last »
loading...
Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015