DilSeDilKiTalk

Baatein Dil Ki Always Rock

Tag: mil bhi jaate hai to katra ke nikal jaate hai haye mausam ki tarah dost badal jaate hai

Bashir Badr Ghazal – मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं

मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं
हाये मौसम की तरह दोस्त बदल जाते हैं

हम अभी तक हैं गिरफ़्तार-ए-मुहब्बत यारो
ठोकरें खा के सुना था कि सम्भल जाते हैं

ये कभी अपनी जफ़ा पर न हुआ शर्मिन्दा
हम समझते रहे पत्थर भी पिघल जाते हैं

उम्र भर जिनकी वफ़ाओं पे भरोसा कीजे
वक़्त पड़ने पे वही लोग बदल जाते हैं


Advertisements
loading...
Loading...
Loading...
DilSeDilKiTalk © 2015