Tamanna Shayari In Hindi – मेरी हर अदा में छुपी

मेरी हर अदा में छुपी थी तेरी तमन्ना
तुम समझे नहीं ,बात और है।
करनी थी कुछ दिल की फरियाद,
मिले अल्फ़ाज़ नहीं,बात और है

Leave a Reply