Tamanna Shayari In Hindi – हर सुबह निकल पड़ती जो

हर सुबह निकल पड़ती जो खुद की तलाश मे
वो खोई हुई सी एक पहचान हूँ
ना आँखो मे ख्वाब है ना दिल मे तमन्ना कोई
अपनी बनाई हुई राहो से ही अनजान हूँ

Leave a Reply