Tareef Shayari – खुशबु आ रही है कहीं से ताज़े गुलाब की

खुशबु आ रही है कहीं से ताज़े गुलाब की..

शायद खिड़की खुली रेह गई होगी उनके मकान की..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *