Udasi Shayari In Hindi – शर्म नहीं आती उदासी को

शर्म नहीं आती उदासी को जरा भी,
मुद्दतों से मेरे घर की महेमान बनी हुई है …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *